Header Ads

.

पीडब्ल्यूडी विभाग की लापरवाही की भेंट चढ़ा युवक,गंगा नदी में गिरकर हुई मौत

मेजा - प्रयागराज। इलाके के निवैया गांव के रामतिलक भारतीया (62) अपने भतीजे मुकेश भारतीया पुत्र शिवनारायण भारतीया के साथ मोटरसाइकिल से शनिवार सुबह अपनी बहन के बेटे की सगाई में हंडिया के दुलापुर गांव गए थे। सगाई के बाद शाम 5:30 बजे वो सिरसा में बने पांटून पुल से वापस आ रहे थे। अभीवो थोड़ी दूर ही पहुँचे थे कि सामने से एक पिकअप वाहन आ गयी जिसे पास देने के लिए वो किनारे  हुए लेकिनउनके बाइक में बेतरतीब ढंग से बिछा हुआ चकर्ड प्लेट फंस गया जिससे वो दोनों अनियंत्रित होकर गंगा में गिर गए। रामतिलक भारतीया तो किसी तरह जान बचाकर बाहर निकल गए लेकिन मुकेश के सिर में पीपे पर गिरने से चोट लग गई जिससे वह बेहोशी की हालत में गंगा के बीच धारा में गिर गया और बह गया। बाहर निकलने के बाद रामतिलक के शोर मचाने पर स्थानीय मछुवारों ने मुकेश को ढूढने का हर संभव प्रयास किया लेकिन सफलता हांथ नहीं लगी।  जानकारी पाकर सिरसा चौकी इंचार्ज हरगोविंद सिंह, थानाध्यक्ष मेजा, सीओ मेजा, चौकी इंचार्ज सैदाबाद, एसओ हंडिया देर रात तक शव ढूढ़वाने का प्रयास करते रहे। रात में SDRF की टीम भी पहुँचीं लेकिन रात में कम विजिबिलिटी के कारण उन्हें भी सफलता नहीं मिली। सुबह एक बार फिर हंडिया पुलिस के सहयोग से SDRF की टीम गंगा में उतरी काफी प्रयास के बाद 9 बजे शव मिला।  शव मिलने के बाद ठेकेदार द्वारा पुल का सम्पूर्ण निर्माण न किये जाने, रेलिंग न बनाये जाने, चकर्ड प्लेट के नीचे मिट्टी पुवाल आदि न बिछाए जाने आदि को लेकर हंगामा करते हुए शव रखकर चक्काजाम कर दिया। मौके पर समाजसेवी सूरज शुक्ल सत्या, विकास शुक्ला विक्की आदि ने कहा कि यदि ठेकेदार द्वारा रेलिंग बनवाया गया होता तो ऐसा हादसा न होता। हंगामा बढ़ता देख एसडीएम हंडिया आकांक्षा राणा मौके पर पहुँची और परिवारजनों को आश्वासन दिया कि हर सम्भव मदद की जाएगी तथा आर्थिक सहयोग के लिए भी प्रयास किया जाएगा। उन्होंने परिवारजनों से तहरीर लेकर पुल ठेकेदार तथा अधिशासी अभियंता के खिलाफ मुकदमा काभरोसा दिलाया तब जाकर परिजनों द्वारा शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजने को राजी हुए। मुकेश पांच बहनों में इकलौता भाई था। परिवारजनों का रो रोकर बुरा हाल था।

No comments