Header Ads

.

Vikas Dubey Arrest: 8 पुलिस वालों का हत्यारा विकास दुबे गिरफ्तार, आत्मसमर्पण किया या पकड़ा गया...5 बड़े सवाल

कानपुर (Editor-In-Chief - सूूरज द्विवेदी)   एनकाउंटर में आठ पुलिस कर्मियों की मौत का जिम्मेदार कुख्यात विकास दुबे यूपी के इतिहास की सबसे बड़ी घटना को अंजाम देने के बाद पुलिस की नाक के नीचे से निकल गया और सात राज्यों की पुलिस ताकती रह गई। छह दिन से फरार गैंगस्टर विकास दुबे की गुरुवार सुबह उज्जैन में गिरफ्तारी हुई तो कई सवाल खड़े हो गए।
 एनकाउंटर के बाद घटनास्थल से पांच किमी दूर कैसे रुका विकास
कानपुर एनकाउंटर के बाद विकास दुबे को पकड़ने के लिए कानपुर पुलिस ने विकास के बिकरू स्थित घर पर गुरुवार देर रात को दबिश दी थी। विकास और उसके गुर्गों ने सीओ समेत आठ पुलिसकर्मियों की हत्या कर दी। शूटआउट के दौरान वह घर के पीछे खड़ी साइकिल से भाग निकला। विकास दो दिनों तक कानपुर के शिवली में ही दोस्त के घर रुका लेकिन दस हजार पुलिस कर्मी, यूपी एसटीएफ की सौ टीमें और 40 थानों की पुलिस उसका पता नहीं लगा सकी। कैसे एक के बाद एक जिले करता गया पार
दो दिन शिवली में रुकने के बाद विकास एक ट्रक में सवार हो गया। वह 92 किलोमीटर की दूरी तय कर औरैया पहुंच गया। सख्त नाकेबंदी के बावजूद यूपी पुलिस उसे ट्रेस नहीं कर पाई। जबकि पुलिस ने सभी जिलों में सघन तलाशी अभियान चला रखा था। औरैया के बाद विकास हरियाणा के फरीदाबाद पहुंचा। माना जा रहा है कि उसने किसी की कार से 385 किलोमीटर की दूरी तय की। सोमवार दोपहर 3:19 बजे उसकी आखिरी लोकेशन फरीदाबाद मिली थी।सीसीटीवी में दिखने के बाद कहां गायब हो गया था विकास
हरियाणा पुलिस और यूपी एसटीएफ की टीम फरीदाबाद के होटल में पहुंचती, इससे पहले विकास दुबे वहां से निकल गया। सीसीटीवी में बस उसकी एक झलक दिखाई दी, जिसमें वह एक ऑटो में बैठता दिखा। बाद में वह एक रिश्तेदार के घर में भी रहा। यहां भी पुलिस के पहुंचने से पहले वह भाग निकला। विकास ने कैसे तय किया 750 किमी से अधिक का सफर
विकास सोमवार को फरीदाबाद में दिखा था। इसके बाद वह कहां रहा, यह नहीं पता। सीधे गुरुवार सुबह उज्जैन में उसकी गिरफ्तारी हुई। 773 किमी लंबा सफर तय करने के दो रास्ते हैं। या तो हरियाणा, यूपी के रास्ते मध्यप्रदेश पहुंचा जा सकता है। या फिर हरियाणा, राजस्थान के रास्ते मध्यप्रदेश तक जाया जा सकता है। एक थ्योरी यह बता रही है कि वह उज्जैन पहुंचने से पहले मध्यप्रदेश के शहडोल में था। यह शक इसलिए गहराता है क्योंकि मंगलवार को यूपी एसटीएफ ने शहडोल से विकास दुबे के साले ज्ञानेंद्र और भतीजे आदर्श को उठाया था। सात राज्यों में किसी ने कैसे विकास को नहीं देखा
सबसे बड़ा सवाल यह है कि विकास एक के बाद एक जिले फिर राज्यों की पुलिस को चकमा देकर कैसे उज्जैन पहुंच गया। क्या उसके पास कोई गाड़ी थी, जिससे सफर कर वह इतने राज्यों की सीमा पार करते हुए मध्यप्रदेश पहुंचा। फरीदाबाद में सीसीटीवी फुटेज में नजर आने के बाद पुलिस भी चौकस थी। फिर भी वह 12 से 14 घंटे सफर कर उज्जैन तक कैसे पहुुंच गया। हरियाणा, यूपी, एमपी की पुलिस उसका पता नहीं लगा पाई। उसकी पहचान सीधे महाकाल मंदिर के अंदर दर्शन के बाद एक गार्ड ने की।

No comments