Header Ads

.

वंदे भारत मिशन के दूसरे चरण में 31 देशों में फंसे 30 हजार भारतीयों की वापसी होगी: हरदीप सिंह पुरी


नई दिल्ली

कोरोना लॉकडाउन के कारण विमानों का उड़ान बंद है। इस बीच केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार ने विदेशों में फंसे भारतीयों को लाने के लिए 'वंदे भारत मिशन' चला रही है। लोगों को भारत वापस लाया जा रहा है। इस मामले पर नागर विमानन मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने बुधवार को कहा कि वंदे भारत मिशन के दूसरे चरण में 31 देशों से 30,000 भारतीयों की वतन वापसी होगी। इसके लिए 16 मई से 22 मई के बीच 149 विमानों का संचालन किया जाएगा।

वंदे भारत मिशन के पहले चरण में एअर इंडिया और उसकी सहयोगी एअर इंडिया एक्सप्रेस की सात मई से 14 मई के बीच 64 विमानों का परिचालन करने की योजना है। इसके तहत 12 देशों से अब तक 14,800 भारतीयों को स्वदेश वापस लाया जा चुका है। इसके लिए यात्रियों से किराया भी लिया गया।

कोरोना वायरस के प्रसार को रोकने के लिए देशभर में 25 मार्च से लॉकडाउन लागू है। इसके चलते सभी वाणिज्यिक उड़ानों का परिचालन बंद है।

इन देशों से आएंगे लोग: सूत्रों ने बताया कि 149 उड़ानों में 13 अमेरिका, 11 यूएई, 10 कनाडा, 9 सऊदी अरब, 9 यूके, 8 मलेशिया, 8 ओमान, 7 कजाखस्तान, 7 ऑस्ट्रेलिया, 6 यूक्रेन, 6 कतर, 6 इंडोनेशिया, 6 रूस, 5 फिलीपींस, 4 फ्रांस, 4 सिंगापुर, 4 आयरलैंड, 4 किर्गिस्तान, 3 कुवैत, 3 जापान, 2 जॉर्जिया, 2 जर्मनी, 2 ताजिकिस्तान, 2 बहरीन, 2 आर्मेनिया, 1 थाईलैंड, 1 इटली, 1 नेपाल, 1 बेलारूस, 1 नाइजीरिया और 1 बांग्लादेश से भारतीयों को लेकर आएगी।

राज्यवार विवरण: विदेश से भारतीयों को लाने वाली उड़ानें देश के विभिन्न राज्यों में जाएंगी। केरल में 31, दिल्ली 22, कर्नाटक 17, तेलंगाना 16, गुजरात 14, राजस्थान 12, आंध्रप्रदेश 9, पंजाब 7, बिहार 6, उत्तरप्रदेश 6, ओडिशा 3 और चंडीगढ़ में 2 उड़ानें भारतीयों को लेकर आएंगी। एक-एक उड़ान जम्मू-कश्मीर, जयपुर, मुंबई और मध्य प्रदेश भी आएगी। सूत्रों ने कहा कि अभी ये तय नहीं हुआ है कि दूसरे चरण में आने वाले लोगों की वास्तविक संख्या कितनी होगी। 

पहले के मानक लागू होंगे: भारत आने वाले सभी नागरिकों पर पहले से तय एसओपी लागू होंगे। इनको घर भेजने से पहले क्वारंटाइन किया जाएगा। सूत्रों ने कहा विदेश से आने वालों में छात्र, प्रवासी कामगार, बुजुर्ग, गर्भवती महिलाएं, अल्पावधि वीजा वाले लोग और फंसे हुए पर्यटक शामिल हैं। उड़ान के अलावा जलमार्ग से भी लोगों को लाया जा रहा है।

No comments