Header Ads

.

लॉकडाउन 3.0 : नितिन गडकरी ने कहा- जल्द शुरू हो सकता है पब्लिक ट्रांसपोर्ट का संचालन

देशभर में जोन आधारित कारोबारी गतिविधियों की छूट दिए जाने के बाद जल्द ही आवागमन के साधन भी बहाल हो सकते हैं। केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने कहा कि सरकार सोशल डिस्टैंसिंग का पालन करते हुए सार्वजनिक परिवहनों के संचालन के लिए दिशा-निर्देश तैयार कर रही है। उन्होंने कहा, 'पब्लिक ट्रांसपोर्ट जल्द शुरू हो सकता है... इसके लिए गाइडलाइंस आ रहे हैं।' गडकरी ने बस और कार संचालकों के संघ को संबोधित करते हुए यह बात कही। ध्यान रहे कि अभी सिर्फ ग्रीन जोन के अंदर ही बसों, कारों के संचालन की अनुमति दी गई है।
गडकरी ने कहा कि देश के अलग-अलग हिस्सों में लोग फंसे हुए हैं। वे वहां से निकलना चाहते हैं और इसलिए जरूरी है कि हवाई सेवा, रेलवे और बस सेवा को शुरू किया जाए। मुझे लगता है कि इसकी शुरुआत कर देनी चाहिए। सरकार की भी यही कोशिश है।
नियमों का पालन रहेगा अनिवार्य
बस ऐंड कार ऑपरेटर्स कन्फेडरेशन ऑफ इंडिया के सदस्यों से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से हुई बातचीत में गडकरी ने कहा कि ट्रांसपोर्ट और हाईवेज खोलना आम लोगों में विश्वास बहाली का प्रभावी जरिया बन हो सकता है। उन्होंने कहा कि बसों और कारों का संचालन शुरू होने पर सोशल डिस्टैंस और साफ-सफाई के सारे नियमों के पालन करना अनिवार्य होगा।
4 मई से मिली हैं ये छूट
ध्यान रहे कि लॉकडाउन का दूसरा चरण 3 मई को पूरा होने के बाद और 4 मई से तीसरा चरण शुरू होने के साथ ही पूरे देश को रेड, ऑरेंज और ग्रीन जोनों में बांटकर कई तरह की छूट लागू कर दी गई। अब कंटेनमेंट एरिया को छोड़कर पूरे देश में शराब की दुकानें भी खुल चुकी हैं। रेड जोन में कुछ गतिविधियों पर पाबंदियां जरूर लागू हैं, लेकिन ऑरेंज और ग्रीन जोनों में शर्तों के साथ ज्यादातर कारोबारी गतिविधियों की छूट दी जा चुकी है। वहीं, देशभर में फंसे मजदूरों, छात्रों, पर्यटकों के लिए स्पेशल ट्रेनें और बसें भी चलाई जा रही हैं। ग्रीन जोन के अंदर बसें भी चलाई जा रही हैं। 4 मई से ग्रीन और ऑरेंज जोन में टैक्सी और कैब को भी संचालन की अनुमति दी गई है, लेकिन इसमें ड्राइवर के अलावा एक ही पैसेंजर हो सकते हैं।
वाहन मालिकों को दिलाया भरोसा
बहरहाल, गडकरी ने संघ की मांग पर कहा कि उन्हें वाहन मालिकों की समस्याओं का आभास है और वो उनकी परेशानियां दूर करने का हरसंभव प्रयास करेंगे। मंत्री ने कहा कि इसके लिए वो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण के लगातार संपर्क में हैं जो कोविड-19 महामारी की मार से अर्थव्यवस्था को उबारने की कोशिश में दिन-रात जुटे हैं।
चुनौती को मौके में बदलें: गडकरी
गडकरी ने निवेशकों और उद्योग जगत से आह्वान किया कि वो वैश्विक बाजार के बड़े हिस्से पर अपनी धाक जमाकर कोरोना वायरस के कारण पैदा हुई चुनौतियों को अवसर में बदल दें। उन्होंने कहा, 'इंडस्ट्री को कोरोना वायरस के कारण संकट का सामना करना पड़ रहा है... हमें इसे वरदान मानना चाहिए क्योंकि कोई भी चीन के साथ व्यापारिक रिश्ता नहीं रखना चाहता है। जापान के पीएम चीन से निकलने वाले उद्योगों को अपने यहां निवेश करने का विकल्प दे रहे हैं... यह भारतीय अर्थव्यवस्था को गति देने का भी मौका है।'

No comments